Wo Husn ki kashish hai ya Hasrat-e-Didar…वो हुस्न की काशिश है या।।

0
413

Wo husn ki kashish hai ya hasrat e didar
Hai wo mehjabi ya jannat ki bahar

Didar-e- husn ko jiske tarasti ho aankhe
Wo kon hai hur-e- khuld ya adame-e-insan

Roshni jiske chera e noor se jagmagati hai
Wo kon hai jo shamma mai itarati hai

Aahat se jiske tadpe fir dil karne ko didar
Kesi hai uski kashish or ronak e bahar…

Wo husn ki kashish hai ya hasrate didar…..2

💐💐💐💐💐💐

वो हुस्न की कशिश है या हसरते दीदार।
है वो महेजबी या जन्नत की बहार।(मेंहजबी-खूबसूरत)

दीदारे हुस्न को जिसके तरसती हो आंखे
वो कोन है हुरे खुल्द या आदमे इंसान।(खुल्द-जन्नत,हर-परी)

रोशनी जिसके चेहराये हुस्न से जगमगाती है।
वो कोंन है जो शम्मा मैं इतराती है।

आहट से जिसके तड़पे फिर दिल करने को दीदार।
केसी है उसकी कशिश ओर रौनकें बहार।।

वो हुस्न की कशिश है या हसरते दीदार…2

Kashtee-By Imran khan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here