Khwab kitne hi tut jate hai.

0
84
Khwab

ख्वाब कितने ही टूट जाते है।
उन ख्वाबो मैं कैद सपने छूट जाते है।

रोता नही कोई भी इंसा अक्सर।
बस बीते लम्हो के कुछ पल सामने से गुजर जाते है।

Khwab kitne hi tut jate hai.
Un khwabo mai ked sapne chhut jate hai.

Rota nahi koi bhi insa aksar.
Bas bite palo k kisse yaad aa jate hai.

 

You may like : 26 January Happy Republic day Images and Qoutes.

 

Best shayari in hindi with images | latest shayri collection 2020|Hindi Shayri Image

 

Kashtee-By Imran khan