Har jagah mujhe koi sahara nahi milta-Hindi Poetry

1
397
Har jagah mujhe koi sahara nahi milta. Apne hi shahar me koi hamara nahi milta.

Har jagah mujhe koi sahara nahi milta.- Hindi Poetry.

 

Har jagah mujhe koi sahara nahi milta.

Apne hi shahar me koi hamara nahi milta.

 

Thak chuka hu apno k sath tapti hui raho me chal chal kar.

Ab to mere pero ko koi thikana nahi milta.

 

Pero me pase chale bhi ab kehne lage mujhse.
Kis k liye tu jiya or ab sukun se mr bhi nahi sakta.

Thodi hi dur rah gaya tha apne ghr ki diwar se
Per mot ko mere siwa koi dusra nahi milta.

Pareshan hu me bas thodi kashmakash chal rahi hai.
Kuch waqt or.mil jaye per koi kinara nahi milta.

Ab to mujhe yaad kar lo e duniya walo.
Me wo hu jiske bager tumhara gharana nahi banta.

Har jagah mujhe koi sahar nahi milta…2



Har jagah mujhe koi sahara nahi milta. Apne hi shahar me koi hamara nahi milta.

Poor person

#एक गरीब की कहानी इस लॉक डाउन में।

हर जगह मुझे कोई सहारा नही मिलता।
अपने ही शहर में कोई हमारा नही मिलता।

थक चुका हूं,में अपनो के साथ तपती राहो में चल चल  कर।
अब तो मेरे पैरो को कोई ठिकाना नही मिलता।

पैरो में पड़े छाले भी अब कहने लगे मुझसे।
किस के लिए जिया तू ओर अब सुकून से मर भी नही सकता।

थोड़ी ही दूर राह गया था अपने घर की दीवार से।
पर मौत को मेरे सिवा कोई दूसरा नही मिलता।

परेशान हूँ में बस थोड़ी कशमकश चल रही है।
कुछ वक़्त ओर मिल जाए पर कोई किनारा नही मिलता।

अब तो मुझे याद करलो ऐ दुनियावालो।
में वो ही जिसके बगैर तुम्हारा घराना नही बनता।

हर जगह मुझे कोई सहारा नही मिलता….2

 

You  may Like Also : Bhul gaya me-भूल गया में

Kashtee-By Imran khan

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here