एक अरसा गुजर गया जब उनसे बात हुई थी…….

1
89

न जाने किस मोड़ पर उनसे मुलाकात हुई थी।
एक अरसा गुजर गया जब उनसे बात हुई थी।

नजरो मैं कैद है,अबतक वो वाकिया।
जब उनसे हमारी आंखे चार हुई थी।

रौनक उनकी मासूमियत की ।
दिल मे मेरे शुमार हुई थी।

जब न मयस्सर हुई थी वो हमारे सामने ।{मयस्सर – पाना}
मुंतज़िर मैं भी उनकी कुछ बात हुई थी। { मुंतज़िर-इन्तेजार}

एक अरसा गुजर गया ,जब उनसे बात हुई थी……2

मुख्तलिफ थी वो हमसे ।{मुख्तलिफ -अलग}
जब हमारी मोहब्बत की ख्वाइश उनके पास हुई थी।

मुसलसल उनकी ना मैं भी । {मुसलसल-चलते रहना}
फिर वही नजाकत हुई थी। {नजाकत-कोमल,मिठास}

हाँ मैं भी न हो जिनके होटो पर।
अन्स वाली जब ना बात हुई थी। {अन्स-प्यार}

आफताब भी शर्मा गया। {आफताब-सूरज}
जब शिद्दत से उनसे हमारी मोहबबत की शुरुआत हुई थी।

एक अरसा गुजर गया ,जब उनसे हमारी बात हुई थी…..2

SAMSUNG M30 MOBILE-worth for many only in amazon on sale .Triple rare camera ,with 6.4 inches screen.

Kashtee-By Imran khan

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here